Wednesday, 23 May 2018

// मेरा महान हिन्दुस्तान .. बनाम .. पाकिस्तान-तालिबान.. //


ये सच है कि.. ये मेरा हिन्दुस्तान है.. ये मेरा देश है.. इस देश का अपना कानून भी है.. और यहाँ उसी कानून का राज भी है..

पर तौबा !!.. मेरे इसी हिन्दुस्तान में सभी कानूनों की धज्जियां उड़ाते हुए किसी इंसान को पीट-पीट कर मार भी दिया जाता है.. और जब ऐसा होता है तो बहुत पीड़ा होती है.. दिल झन्ना जाता है.. और दिमाग भन्ना जाता है..
   
और ऐसे में यदि कोई ये कह दे कि हिन्दुस्तान तो अब पाकिस्तान या तालिबान से भी बदतर हो गया है - तो इस देश में पाकिस्तानी और तालिबानी प्रवृत्ति के सांप्रदायिक लोग ऐसे प्रतिकार करने लगते हैं मानों उन्हें वाकई बुरा लग गया हो.. और इस बहाने वो देशप्रेम की डींगे हांकने लगते हैं और समाज में अपने आपको बेहतर नागरिक के रूप में प्रस्तुत करने की कोशिशें करने लगते हैं..

यानि होता ये है कि टुच्चे अपराधी अपना काम कर जाते हैं - बेचारे गरीब निर्दोष मारे जाते हैं - और जिन्हें पीड़ा होती है वे देशद्रोही करार दे दिए जाते हैं.. और मोटी चमड़ी के वे धूर्त लोग जिनमें इंसानियत बची ही नहीं है वे अपना कालर और दुपट्टा ऊँचा कर टुच्चई पेलने लगते हैं.. और इस देश के कर्ताधर्ता बन जाते हैं.. 

अतः उपरोक्त तथ्यों के मद्देनज़र मैं राजकोट में एक गरीब इंसान की पीट-पीट कर की गई हत्या के विरोध में अपनी पीड़ा और गुस्से का इज़हार बड़े ही नपे तुले शब्दों में रखना चाहूंगा.. ..

क्योंकि अपने देश हिन्दुस्तान में किसी इंसान को पीट-पीट कर मार दिया जाता है - तो ईश्वर अल्लाह के लिए आप ये मान लें कि - अपना देश तालिबान या पाकिस्तान से बहुत बेहतर होकर भी उतना ही बदतर बना दिया गया है..

और ये कारनामा किया है हमारे ही देश के कुछ टुच्चों ने जिनकी सोच मानसिकता व्यवहार और कार्यशैली यकीनन तालिबानियों और शायद पाकिस्तानियों जैसी ही है..

अब आप ही बताएँ कि मैंने ये तो नहीं कहा ना कि मेरा देश तालिबान और पाकिस्तान से बदतर हो गया है.. बल्कि मैंने तो यही कहने का प्रयास किया है कि मेरा देश हिन्दुस्तान महान है.. बहुत महान !!.. और कुछ हिन्दुस्तानी टुच्चे हैं - बहुत टुच्चे.. नहीं क्या ??..

इसलिए खबरदार यदि किसी भक्त ने हिन्दुस्तान की शान में कोई बद्तमीज़ी करी तो..
चीर देंगे !!.. फाड़ देंगे.. और खीर भी नहीं देंगे.. समझे !!

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

No comments:

Post a Comment