Sunday, 26 February 2017

// मोदी का जाना और केजरीवाल का आना तो बिना विकल्प तय है ....//


जब जमी-जमाई कांग्रेस के ज़माने में भ्रष्टाचार के प्रकरण सामने आने लगे थे तो अक्षम विपक्षी भाजपा का वर्चस्व बढ़ा और शायद सही बढ़ा .. क्योंकि तब के माहौल में मजबूत कांग्रेस को शिकस्त देने के लिए विपक्षी पार्टी के मोदी जैसे व्यक्ति के अलावा कोई और विकल्प नहीं था .. और मोदी जी को धन्यवाद कि उनकी बदौलत कांग्रेस हारी और सत्ता से अपदस्थ हुई .. ..

पर अब जब मोदी भी घोर रूप से असफल हो रहे हैं - और सब दूर अव्यवस्था भ्रष्टाचार बढ़ रहा है और दादागिरी चिल्लाचोट अविश्वास लड़ाई झगडे विद्वेष असहिष्णुता का अति दूषित और निराशा भरा माहौल बनता ही जा रहा है - तो मोदी का जाना भी उतना ही आवश्यक हो चला है जितना उस वक्त कांग्रेस का जाना हो चला था .... बल्कि पानी सिर के ऊपर से निकल रहा है और ऐसा होना अपेक्षाकृत कहीं अधिक आवश्यक हो चुका है .. ..  

और यहां गौरतलब है कि उस वक्त कांग्रेस का जाना ज्यादा आवश्यक था ना कि डॉक्टर मनमोहन सिंह का .. पर आज तो मोदी का जाना तो आवश्यक है ही - पर भाजपा का जाना भी आवश्यक है - क्योंकि भाजपा में मोदी से कई लोग अधिक काबिल होते हुए भी कोई भी प्रधानमंत्री के लायक तो नहीं दिखता - और भाजपा का डीएनए भी अब इस धर्मनिरपेक्ष देश के मिज़ाज़ के माकूल नहीं लगता .. ..

पर क्या आज कमज़ोर हो चुकी कांग्रेस में सत्तासीन मोदी को हराने की क्षमता बची दिखती है ?? .. कदापि नहीं !!

तो फिर विकल्प क्या है ?? .. विकल्प है कोई "और" जो कांग्रेस का स्थान ले विपक्ष की भूमिका निभाए .. क्योंकि वैसे भी प्रजातंत्र के सफल क्रियान्वयन के लिए एक प्रभावकारी विपक्ष की आवश्यकता होती ही है .. ..

और मुझे लगता है कि केजरीवाल की 'आप' पार्टी बहुत ही अप्रत्याशित गति से प्रत्याशित विपक्ष का स्थान ग्रहण कर रही है .. और पंजाब और गोवा जीत के बाद वो एक निर्णायक स्तर पर आकर अति समस्याग्रस्त मोदी को ज़ोरदार टक्कर देते हुए ठोकर मार सत्ता पर काबिज़ होते दिखती है .. ..

पर यदि ऐसा नहीं होता है तो ?? .. मुझे तब भी लगता है - कि मोदी का जाना तय है और केजरीवाल का आना भी तय है .. इसलिए कुछ ऐसा तो होगा ही .. .. !! जय हिन्द !!

मेरे 'fb page' का लिंक .. https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

No comments:

Post a Comment