Friday, 24 February 2017

/.. याद आया वो डायलॉग .. " कार के नीचे कुत्ते का पिल्ला भी आ जाता है तो दुःख होता है कि नहीं ?? .. होता हैssss !! " .... और फिर उसके बाद की सफाई कि - कुत्ते का पिल्ला उनको नहीं बोला था वस्तुतः जिनको बोला था .. ..
और इसलिए आज मुझे भी समझ आ गया कि लड़के ने जिसे गधा कहा है वो वही गधा है जिसे गधा कहा है .. .. कोई शक़ ?? - कोई आपत्ति ?? .. नहीं ना !! तो आइये आप भी गाइये ....
जंगल दंगल बात चली है पता चला है ..
अरे लड़के ने तो गधे को ही गधा कहा है ..
जंगल दंगल पता चला है गधा कहा है गधा कहा है .. .. .. ..../

मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ

No comments:

Post a Comment