Tuesday, 28 February 2017

// हाय !! .. "कोई" लौटा दे मेरे अच्छे-बुरे दिन ....//


रामजस कॉलेज की घटनाएं - पूर्व की घटनाएं - और अब इतना दूषित उकसाऊ वातावरण कि ना केवल शहीद की युवा बेटी गुरमेहर - बल्कि एक आम आदमी जो घर-घुस्सू नहीं हो आज के सम-सामयिक विषयों पर अपनी राय रख उसका इज़हार करता हो - वो भी आतंकित एवं भयभीत हो चला है .. .. लग रहा है भाई भाई के छुरा घोंप कर ही दम लेगा - दोस्त दोस्त से दुश्मनी निकाल कर ही रहेगा .. और देश से जुड़े सम-सामयिक विषयों पर विचार विमर्श के दौरान आपसी मतभेद हो जाने पर भी आपका मित्र आपसे बदला लेकर ही रहेगा .. और देश का भविष्य "छात्र" अपने साथियों सहपाठियों से ही बैर पाल हिंसक हो एक दुसरे को राजनीति और गुंडई के पाठ सिखा कर ही अपनी योग्यता की डिग्री हासिल करेगा .. यानि फिर देशभक्ति या राष्ट्रप्रेम के नाम पर - या गलतफहमी पाल लेने पर - कैसा कायदा कैसा कानून कैसी व्यवस्था ?? .. ..

और सत्ता ना हुई लाठी हो गई .. जिसकी सत्ता उसकी भैंस .. .. और उसकी ही गाय और उसका ही गधा भी !!

यानि सत्ता ही अब सर्वेसर्वा - सत्ता ही सब कुछ - और सत्ता के लिए ही सबकुछ .. .. और देश का भविष्य अब आरएसएस, भाजपा, एबीवीपी, बजरंग दल, विहिप के भरोसे .. फिर भविष्य भले ही उज्जवल हो या भयावह .. ..

आज मैं भी बहुत विचलित आतंकित चिंतित हो चला हूँ .. और देश समाज के प्रति अपने फ़र्ज़ों को निभाने का प्रयास करते हुए भयभीत भी .. आतंकित भी .. ..       

मैं एक नास्तिक हूँ - पर फिर भी - देशहित में प्रार्थना करने का मन कर रहा है - किसी खास से ना सही - किसी "कोई" से तो कर ही सकता हूँ .. ..

"कोई" लौटा दे मेरे अच्छे-बुरे दिन ..
अच्छे-बुरे दिन वो मेरे बीते हुए दिन .. .. "कोई" लौटा दे मेरे अच्छे-बुरे दिन !! .. ..

मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ

No comments:

Post a Comment