Sunday, 11 February 2018

// चूड़ियाँ तो छोड़ ये तो चूड़ीदार पायजामा पहनने लायक भी नहीं बचे हैं.. ..//


एक शर्मनाक मोदीछाप सफ़ेद झूठ पर एक महिला की हंसी जिन्हें झिंझोड़ कर रख गई..

वो पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे सकेंगे ??..
या फिर और ही कोई पुरुषार्थ कर सकेंगे ??..

अरे छोड़िये जनाब !!.. इन से कुछ नहीं हो सकेगा.. इनसे तो चाय बनाने और पकोड़े तलने जैसे राष्ट्रव्यापी महत्वपूर्ण आत्सम्मान वाले स्वरोज़गार के बहाने पूरे देश को बेइज़्ज़त करने के अलावा कोई अच्छी अपेक्षा रखना भी व्यर्थ है..

और इन्हें तो केवल लफ़्फ़ाज़ी के साथ भाषणबाज़ी करने से रोक दीजियेगा तो ये ठिठुर जाएंगे - पंगु हो जाएंगे - सन्न हो जाएंगे - सुप्त हो जाएंगे - लट्ठ हो जाएंगे - और मृतप्राय हो जाएंगे..   

और इसलिए ये तय है कि राष्ट्रसम्मान और राष्ट्रहित के कोई भी काम इनसे नहीं हो सकेंगे.. क्योंकि इनमें वो माद्दा ही नहीं है..

और बिन माद्दा ये कभी मादा तक का मुकबला नहीं कर सकेंगे.. इन्होनें तो पद्मावती को भी पद्मावत करवा दिया था और उसके बाद भी अपनी औकात का प्रदर्शन करते रहे हैं.. ये तो महिलाओं का खुल्ले आम उपहास करते ही रहे हैं.. और महिलाओं के प्रति इनका क्रूर रवैय्या भी अखरने वाला ही तो है.. ये तो अग्निदेवता के समक्ष अपनी पत्नी के प्रति दिए गए वचनों का निर्वहन तक ना कर सके - तो राष्ट्र के प्रति ली गई शपथ का क्या खाक निर्वहन करेंगे ??..  

इसलिए इन्हें तो चूड़ियाँ पहनने के लिए कहना भी पुरषों से शक्तिशाली हो चली महिलाओं का अपमान होगा.. चूड़ियाँ तो छोड़ ये तो चूड़ीदार पायजामा पहनने लायक भी नहीं बचे हैं.. है ना !!

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

No comments:

Post a Comment