Monday, 23 July 2018

// 'बेटा' संबित पात्रा और गालियां ही गालियां !!.. पितृपक्ष कमज़ोर - राहू(ल) हावी !!.. ..//


आजकल गोदी मीडिया में एक अलग ही बहार है.. और बहार है गालियों की.. और 'राहूल' की..

दरअसल हो ये रहा है कि राहुल फोबिया से ग्रसित चिल्लाचोट मचाने के महारथी संबित पात्रा को अब सब जान पहचान गए हैं और उसका बेहतरीन तोड़ भी ढूंढ निकाला गया है..

और तोड़ ये है कि अब लोग उसे उकसा देते हैं और बराबर की चिल्लाचोट मचा देते हैं और उसके बोलने पर वो भी लगातार बोलने लगते हैं और चिल्लाने पर चिल्लाने लगते हैं और टीवी एंकर की भी ऐसी की तैसी कर देते हैं - और उसके बाद संबित पात्रा 'राहूल-राहूल' चिल्लाता रहता है..
और जैसे ही वो थोड़ा शांत होता है अन्य प्रवक्ता फिर से शुरू हो जाते हैं - और फिर चिल्लाचोट और गालियां ही गालियां.. ..

यानि कुल मिला के माहौल ऐसा हो गया है कि जिस चैनल पर आजकल संबित पात्रा बहस कर रहे होते हैं वहां या तो वो गालियां खा रहे होते हैं या गालियां दे रहे होते हैं - और शोर के बीच 'राहूल-राहूल' की बांग दे रहे होते हैं..

और मुझे ये महसूस होने लगा है कि आजकल तो संबित पात्रा तक भी 'मोदी-मोदी' नहीं बोलते हैं या बोल पाते हैं - और वो इसलिए क्योंकि मोदी के पास और भक्तों के पास खुद का गिनाने बताने को कुछ है ही नहीं..

और इसलिए वो 'मोदी-मोदी-मोदी' के बजाय 'राहूल-राहूल' ही बोलते रहते हैं - और इसलिए राहुल छा रहे हैं और ट्वीटिया भी बहुत रहे हैं.. और मोदी अब तो राहुल के आगे काफी नर्वस दिखाई दे रहे हैं..
जी हाँ अब तक अकल्पनीय माने जाने वाली बात - राहुल के आगे मोदी नर्वस - और नर्वस के कारण फोकट उत्तेजित भी !!..

और जब से उसी पप्पू राहुल ने भरी सभा में नर्वस मोदी को छेड़ा है ना - तब से तो पूछो मत.. संबित पात्रा केवल चिल्लाते हुए गालियां ही नहीं दे रहे हैं.. बल्कि खिसिया भी रहे हैं.. मानो कोई 'बाप' को लताड़ गया हो..

यानि मानो.. 'बेटे' संबित पात्रा का पितृपक्ष कमज़ोर - और राहू(ल) हावी चल रहा है !!..

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

No comments:

Post a Comment