Sunday, 2 July 2017

// GST का समर्थन या विरोध गया भाड़ में - पर निर्दोष की हत्या क्यूँ ?? ....//


एक भक्त ने मुझ से पूछ लिया .. कि जब आपको GST समझ नहीं आया तो विरोध क्यों ?? ..
मैनें भी पूछ लिया कि निर्दोष की पीट-पीट कर हत्या का विरोध क्यों ?? .. ..

क्योंकि हत्या का तो विरोध होना ही चाहिए .. ..
पर हत्या क्यों हुई क्या आपको समझ में आया ?? .. ..

कारण कोई भी रहा हो - हत्या का विरोध तो होना ही चाहिए .. ..
यानि आप हत्या के कारण को बगैर समझे ही हत्या का विरोध कर रहे हैं .. है ना !!
जी हाँ !! 

जी हाँ !! .. तो अब समझ लें कि यदि आप चाहते हैं कि मैं GST का विरोध समझ के करूँ - तो आप भी समझ लें कि पहले आप को हत्या के कारण भी समझना होंगे .. और कारण हैं - सांप्रदायिक सोच और सत्ता का अपराधीकरण - और राजनीति में धर्म का घुसाड़ और धर्म में राजनीति का घुसाड़ .. और इस जघन्य अपराध में सत्तासीनों का अप्रत्यक्ष प्रोत्साहन और प्रश्रय - और अपनी जिम्मेदारी और जवाबदारी से भाग खड़े होना .. ..

और इसलिए इस सरकार के द्वारा किये जा रहे प्रत्येक कार्य के प्रति अविश्वास और विरोध के भाव उत्पन्न होना स्वाभाविक ही है .. और श्रेयस्कर भी - ताकि भविष्य में किसी निर्दोष की जान तो ना जाए !!

तो आपका GST विरोध केवल इसी कारण ?? .. ..

जी नहीं - केवल इस कारण नहीं - कारण यह भी कि GST से प्रभावित होने वाले कई लोग भी तो इसका विरोध कर रहे हैं .. जैसे कि - मोदी भी और भाजपाई भी संघी भी बजरंगी भी हत्यारे भी सांप्रदायिक भी नेता भी मंत्री भी संत्री भी और भक्त भी - ये सब भी तो निर्दोष लोगों की पीट- पीट कर की जा रही हत्याओं का विरोध कर रहे हैं .. मैं भी इसलिए GST का विरोध कर रहा हूँ .. क्योंकि विरोध करने के भी तो अपने निहित कारण हो ही सकते हैं .. है ना !! .. ..

अक्ल का पैदल भक्त अपनी कार में बैठ जा चुका है .. शायद GST का बखान करने .. यदि वो आपके पास आए तो आप भी उससे ये जरूर पूछ लीजियेगा कि - GST का समर्थन या विरोध गया भाड़ में - और हत्याओं का मोदी घड़ियाली विरोध भी गया भाड़ में - पर निर्दोष की हत्या क्यूँ ?? .. .. !! धन्यवाद !!

मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ

No comments:

Post a Comment